चक्रवाती तूफान अंपन का कहर ,पश्चिम बंगाल और उड़ीसा में भारी तबाही:- बंगाल की खाड़ी से उठे चक्रवाती तूफान अम्फन आज पश्चिम बंगाल और उड़ीसा के तटीय इलाकों से टकराया, जिसके कारण तेज हवाओं के साथ मूसलाधार बारिश ने लोगों का जीवन अस्त-व्यस्त कर दिया ,हालांकि इसके लिए तैयारियां पहले से ही की गई थी, एनडीआरएफ के साथ स्थानीय प्रशासन ने तटीय इलाकों से लाखों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया था, चक्रवाती तूफान के मद्देनजर उड़ीसा और पश्चिम बंगाल में एनडीआरएफ की कुल 41 टीमें लगाई गई हैं, दोपहर 2:30 बजे के लगभग अम्फन पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों, पश्चिमी मिदनापुर , पश्चिम दक्षिण 24 परगना और कोलकाता से टकराया, चक्रवाती तूफान के हवाओं की गति 150 से लेकर 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से रहा , पश्चिम बंगाल में अम्फन के कारण तटीय इलाकों में भारी नुकसान हुआ है, यहां पर एनडीआरएफ की टीम ने 5 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित ठिकानों पर पहुंचा दिया ताकि किसी बड़ी जनहानि से बचा जा सके, हवाओं की तेज रफ्तार के कारण कई जगहों पर पेड़ उखड़ गए ,बिजली के खंभे गिर गये टीन शेड लोगों के उड़ गए जिससे कि काफी नुकसान हुआ है, पश्चिम बंगाल में अब तक 2 लोगों के मरने की पुष्टि हुई है, उड़ीसा के बालासोर और भद्रक जिले में अम्फन ने तबाही मचाई है उड़ीसा के तटीय इलाकों में तेज और मूसलाधार बारिश हो रही है , इस चक्रवाती तूफान के तेज हवाओं के कारण सड़कों पर पेड़ उखड़ कर गिर गए हैं, बिजली के खंभे टूटकर गिर गए हैं तथा लोगों के तीन शेड भी तेज हवाओं के कारण उड़ गए ,उड़ीसा में एनडीआरएफ की टीम ने 119000 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया ताकि किसी बड़ी जनहानि से बचा जा सके , सुपर साइक्लोन अंपन का असर 21 मई तक इन इलाकों में रह सकता है, इसके बाद इसके कमजोर पड़ने की संभावना है,स्थानीय प्रशासन के साथ एनडीआरएफ की टीम लोगों को लिए राहत एवं बचाव कार्य कर रही है ,नौसेना को भी किसी आपात स्थिति से निपटने के लिए तैयार रखा गया है ,समुद्र में 3 से 5 मीटर उॅची लहरें उठने की संभावना है, मछुआरों को पहले ही समुद्र से बाहर आने को कह दिया गया था, केंद्र सरकार स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं, |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here