दुखद हादसा: औरंगाबाद में रेल पटरी पर सोए 16 मजदूरों की मौत:- एक तरफ कोरोना का कहर दूसरी ओर बेबस मजदूर अपने अपने गांव की तरफ जिसको जो साधन मिल रहा है वैसे ही निकलने की कोशिश कर रहे हैं, फैक्ट्रियां बंद है, काम मिल नहीं रहा है ,पैसे हैं नहीं, सरकार की तरफ से उठाए गए कदमों से वह नाखुश हैं ,कहीं-कहीं तो 2 वक़्त के भोजन के भी लाले पड़े है,लिहाजा यह मजदूर पैदल ही शहरों से अपने गांव की तरफ निकल पड़े, औरंगाबाद के जलना से एसआरजी कंपनी में काम करने वाले 20 मजदूरों की एक टोली मध्य प्रदेश के शहडोल और उमरिया को पैदल ही निकल पड़ी, अभी वह 26 किलोमीटर की यात्रा ही पूरी किए थे उन्हें रास्ते में थक कर नींद आ गई जिसमें 16 मजदूर रेल पटरी पर सो गए और चार मजदूर रेल पटरी के किनारे सुबह भोर में लगभग 5:00 बजे के आसपास एक मालगाड़ी आई हालांकि ड्राइवर ने इमरजेंसी ब्रेक लगाकर उन्हें बचाने की भरपूर कोशिश की लेकिन ड्राइवर की यह कोशिश नाकाम रही और मालगाड़ी ने 16 मजदूरों को रौंद डाला, पटरी के किनारे सो रहे चार अन्य मजदूर भी झटके के कारण घायल हो गए, सूचना पर पहुंची पुलिस और प्रशासन की टीम में घायलों को अस्पताल भिजवाया, इस दर्दनाक हादसे में मौके पर ही इन मजदूरों की मौत हो गई, यह हादसा औरंगाबाद के बदनापुर- करमाड रेलवे स्टेशन के बीच हुआ, इस दर्दनाक हादसे में अंतौली गांव के गोंड परिवार के 9 सदस्यों की मौत हो गई ,इसमें 4 सगे भाइयों समेत चाचा भतीजे शामिल है , इस हादसे के बाद रेल मंत्रालय ने उच्च स्तरीय जांच के आदेश दे दिए, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र सरकार ने मृतकों के परिवारजनों को पांच ₹ 5-5 लाख मुआवजा देने का ऐलान किया है, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि सरकार मजदूरों के साथ है और कोई भी मजदूर पैदल या साइकिल से घर ना निकले, उन्हें घर पहुंचाने की व्यवस्था सरकार कर रही है, बसों और ट्रेनों का इंतजाम किया जा रहा है, मजदूर धैर्य रखें ,उनके खाने-पीने की पूरी व्यवस्था सरकार कर रही है, इस घटना पर राष्ट्रपति ,उपराष्ट्रपति प्रधानमंत्री ,कांग्रेस नेता राहुल गांधी आदि तमाम लोगों ने गहरा दुख व्यक्त किया है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने औरंगाबाद रेल हादसे पर दुख जताया है उन्होंने कहा” इस हादसे से दुखी हूं, रेल मंत्री इस पर नजर बनाए है ,हुए परिजनों की हर संभव मदद की जाएगी”, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रवासी मजदूरों से अपील की कि कोई भी साइकिल या पैदल घर वापस ना आए ,सभी के आने की व्यवस्था सरकार कर रही है ,उन्होंने प्रवासी मजदूरों से धैर्य बनाए रखने की अपील की उन्होंने कहा कि सभी को वापस बुलाया जाएगा |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here