लॉक डाउन पार्ट 3.0 :देश में लॉक डाउन दो हफ्ते के लिए बढ़ा :- देश में कोरोना मरीजों की बढ़ती हुई संख्या को देखते हुए सरकार ने लॉक डाउन 4 मई से 17 मई तक बढ़ा दिया है , गृह मंत्रालय ने इस संबंध में एडवाइजरी जारी करते हुए कहा कि पूरे देश में पहले की तरह स्कूल-कॉलेज, ट्रेन, हवाई यात्रा, मेट्रो, शिक्षण संस्थाएं पूरी तरह बंद रहेंगे, हालांकि कुछ शर्तों के साथ इस बार लॉक डाउन में कुछ ढील दी गई है , पूरे देश को कोरोना संक्रमितो की संख्या के हिसाब से 3 जोन में इन्हें बांटा गया है, रेड जोन, ऑरेंज जोन और ग्रीन जोन, रेड जोन जहां पर कोरोना संक्रमितो की संख्या ज्यादा है वहां पर सख़्ती ज्यादा रहेगी, आवाजाही पर रोक रहेगी ,शॉपिंग मॉल, दुकाने सिनेमाघर आदि पहले की तरह बंद रहेंगे, जरूरी काम के लिए आने-जाने वालों को आरोग्य सेतु एप एप एप लोड करना अनिवार्य रहेगा, प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के दफ्तर खुलेंगे, प्राइवेट ऑफिस सिर्फ 33% कर्मचारियों के साथ खुलेंगे ,जरूरी सामानों की फैक्ट्रियां भी इन इलाके इन इलाके में खखुलेंगीऔर ग्रामीण इलाकों में खेती आदि के कार्य करने को छूट मिलेगी, ई-कॉमर्स कंपनियों से केवल जरूरी सामानो की ही बिक्री हो सकेगी, आरेन्ज जोन में जिनकी संख्या देश में 284 है यहां पर टैक्सी कैब चलने की इजाजत होगी, सरकारी बसो केवल 50% सवारियों के साथ चलने की अनुमति रहेगी, यहां ऑनलाइन सामान मंगाया जा सकेगा, ई-कॉमर्स के जरिए इन इलाकों में सभी प्रकार के सामान मंगाया जा सकता है, हालांकि यहां भी शॉपिंग मॉल, सिनेमाघर, सैलून ,स्पा शिक्षण संस्थाएं पहले की तरह ही बंद रहेगी, यहां पर सुबह 7:00 बजे से लेकर शाम 7:00 बजे तक लोग जरूरी काम के लिए आ जा सकेंगे , ग्रीन जोन जिनकी संख्या देश में 319 है इन इलाकों में पान मसाला, शराब की दुकान सहित सभी प्रकार की दुकानों के खोलने की इजाजत रहेगी ,यहां पर 5 से अधिक लोगों के इकट्ठा होने पर पाबंदी रहेगी, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अनिवार्य रहेगा, होटल, रेस्त्रां, माल सिनेमाघर पहले की तरह ही यहां भी बंद रहेंगे ,टैक्सी कैब और बसों, के चलने की अनुमति यहां पर दी गई है ,आज देश में कुछ जगहों पर प्रवासी मजदूरों को उनके गृह राज्यों में भेजने के लिए पांच स्पेशल ट्रेनें चलाई चलाई स्पेशल ट्रेनें चलाई गई ,पहली ट्रेन तेलंगाना के लिंगमपल्ली स्टेशन से झारखंड के हटिया स्टेशन तक चली, इस ट्रेन में में कुल संख्या के 50% ( 1200) यात्री थे|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here