ओलंपिक गेम्स: एथलीटों के लिए अच्छी खबर :- कोरोना महामारी के चलते टोक्यो जापान में होने वाला ओलंपिक गेम अगले साल के लिए टाल दिया गया ,ऐसे में ओलंपिक गेम्स में भाग लेने वाले खिलाड़ियों के लिए विश्व एथलेटिक्स संघ तैयारियों के लिए पर्याप्त समय मुहैया कराने का भरोसा दिया है ,इन तैयारियों की अवधि 1 दिसंबर 2020 से शुरू होकर 29 जून 2021 तक रहेगी,
विश्व एथलेटिक्स ने स्पष्ट किया है कि 6 अप्रैल से 30 नवंबर के बीच क्वालीफाइंग विंडो बंद रहेगा ,एथलेटिक फेडरेशन ऑफ इंडिया द्वारा 6 अप्रैल से 30 नवंबर के बीच यदि चैंपियनशिप कराता है तो क्वालीफाइंग के लिए वह मान्य नहीं होगा ,क्योंकि विश्व एंटी डोपिंग एजेंसी वाडा भी इस समय काम नहीं कर रही है और खिलाड़ियों का कोई नमूना भी नहीं ले पा रही है, और ना ही वह खिलाड़ियों पर नजर रख पा रही है, ऐसे में संभव है कि कुछ खिलाड़ी प्रतिबंधित से दवाओं का सेवन करें, इसलिए ओलंपिक क्वालीफाई विंडो 8 महीने तक बंद रखने का निर्णय लिया गया,
कोरोना महामारी के बाद लॉक डाउन खुलते ही अंतरराष्ट्रीय डोपिंग एजेंसी वाडा और भारत में डोपिंग टेस्ट करने वाली एजेंसी नाडा सबसे पहले खिलाड़ियों का डोप टेस्ट कराएगी, पूरे विश्व में कोरोना वायरस की महामारी के चलते लॉक डाउन जैसे हालात हैं, ऐसे में कोई देश पहले और कोई देश बाद में लॉक डाउन खोलेंगे, ऐसे में एथलीटों को समान तैयारी का समय नहीं मिल पाएगा, इसीलिए विश्व एथलेटिक्स फेडरेशन सभी देशों की खिलाड़ियों को समान अवसर मुहैया कराना चाहती है , इसलिए सभी के लिए 1 दिसंबर से विश्व एथलेटिक्स संघ क्वालीफाइंग विंडो खोलेगी,
विश्व एथलेटिक्स संघ के अध्यक्ष सेबेस्टियन को ने कहा क्वालिफिकेशन विंडो को 7 माह के लिए बंद करना एथलीटों को तैयारी का मौका देना है, मौजूदा हालात को देखते हुए हमें नहीं लगता है कि जल्द ही सभी एथलीट ट्रेनिंग कर पाएंगे, समान स्तर पर न ही प्रतियोगिताएं हो सकती है ना ही ट्रेनिंग ऐसे में क्वालीफाइंग के लिए और समय देना ही उचित होगा,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here